सोमवार, 27 अक्तूबर 2008

दीवाली




सूरज की

सुर्ख किरण

अंधकार

मिटाने वाली

तू क्या चमके

जैसे चमके

भारत भूमि की

दीवाली


- विजय तिवारी "किसलय"

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें