सोमवार, 27 अक्तूबर 2008

निरुत्तर

बबलू अपने पिताजी के साथ टी. वी. देख रहा था.
एक रीमिक्स गाना देखते हुये उसने अपने पापा जी से पूछा :-
क्या इन अभिनय करने वालों को बहुत पैसे मिलते हैं?
" हाँ बेटे "
अच्छा, तो ये लोग गाना गाकर पैसे कमाते हैं ?
" हाँ बेटे "
" फिर ये लोग इतने छोटे और कम कपड़ों की जगह
इन्ही पैसों से हम लोगों की तरह सही नाप के कपड़े क्यों
नहीं सिलवाते ?
- डॉ विजय तिवारी ' किसलय "

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें