रविवार, 29 दिसंबर 2013

वर्तिका की काव्यगोष्ठी में रेखा रौशनी, डॉ.ए कीर्तिवर्धन और डॉ.ज्वाला प्रसाद कौशिक 'साधक' ने दी काव्य प्रस्तुति.

                              वर्तिका जबलपुर की दिनांक २९ दिसंबर २०१३ को आयोजित  काव्य गोष्ठी में मुख्य अतिथि के रूप में  मुजफ्फरनगर से डॉ. ए. कीर्तिवर्धन अग्रवाल, अध्यक्ष के रूप में मेरठ से 
पधारे  डॉ. ज्वालाप्रसाद कौशिक "साधक"  एवं विशिष्ट अतिथि के रूप में  मुंबई से पधारीं आदरणीया रेखा रोशनी जी ने अपनी अपनी काव्य अभिव्यक्क्तियों  से श्रोताओं को मन्त्र मुग्ध किया. 
वर्तिका के अध्यक्ष विवेक रंजन श्रीवास्तव एवं संभागीय अध्यक्ष श्री विजय नेमा अनुज भी  मंचासीन  रहे.इस अवसर पर वर्तिका की श्रीमती प्रभा पुरनम और सुश्री गीता गीत के काव्य  पटल का अनावरण अतिथियों के कर कमलों से संपन्न हुआ. काव्य पटल लिखी  कविताओं का वाचन पुरनम जी और गीत जी ने किया.
वर्तिका के महासचिव  डॉ. विजय तिवारी 'किसलय' द्वारा वर्तिका की गतिविधियों, कार्य पटल एवं                अतिथि परिचय दिया गया. वार्षिक समारोह से सम्बंधित ब्योरा विजय नेमा अनुज द्वारा दिया गया . 
गोष्ठी में अतिथियों सहित जबलपुर  के  इरफ़ान झांसवी, पीरखां मेराज, प्रमोद तिवारी  मुनि, आनंद शर्मा, राजेंद्र रतन, इंद्र बहादुर श्रीवास्तव, रमाकांत गौतम, वंशिका वंशपाल, रत्ना ओझा, सुनीता मिश्र, छाया त्रिवेदी, ममता जबलपुरी, सुशील श्रीवास्तव, ए के राय, विजय जायसवाल आदि प्रबुद्ध जनों के उपस्थिति उल्लेखनीय रही.
अंत में अतिथियों को स्मृति चिन्ह, सम्मान पत्र देकर अभिनंदित किया गया. सुश्री गीता गीत और प्रभा पाण्डेय पुरनम को काव्य पटल स्मृति देकर सम्मानित किया गया.गोष्ठी का संचालन यूनुस अदीब ने किया. आभार  प्रदर्शन वर्तिका के  श्री सुशील श्रीवास्तव  द्वारा किया गया.
प्रस्तुति :
विजय तिवारी 'किसलय'

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें