शनिवार, 12 मई 2012

चाहत में जिनकी हुआ बावरा, भुलाया उन्हीं ने गए वक्त सा ...


5 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लेखनी को सलाम | बहुत ही संजीदगी से लिखी हुई पन्तियाँ | धन्यवाद यहाँ भी आयें - www.akashsingh307.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  2. दिल की गलियों से निकली पंक्तियाँ ....

    उत्तर देंहटाएं