सोमवार, 30 जनवरी 2012

विजय तिवारी 'किसलय' कृत नर्मदाष्टक 'नित नमन माँ नर्मदे' - सन्दर्भ नर्मदा जयंती ३० जन २०१२.


माँ नर्मदा
साथियो,
आज दिनांक ३० जनवरी २०१२, माघ शुक्ल सप्तमी है, अर्थात माँ नर्मदा का जन्म दिन है.
आज अमरकंटक से खम्भात की खाड़ी तक के सभी तटों पर माँ नर्मदा की जयंती बड़ी भूमधाम से मनाई जा रही है.
आज आप सबको मैं स्वयं का लिखा नर्मदाष्टक.  "नित नमन माँ नर्मदे" सुना / दिखा रहा हूँ.
इसे पल्लवी थापा और अजिंक्य खडसन ने गया है.  संगीतबद्ध किया है जबलपुर के श्री परशुराम पटेल जी ने.  एन वी आर स्टूडियो के भाई नरेन्द्र कुमार ने इस गीत को संवार कर हमें सौंपा है.

विजय तिवारी 'किसलय'
                                             अनेक  वर्षों से  मैं कई महापुरुषों के नर्मदाष्टक सुनता आ रहा था. कुछ संस्कृत में हैं कुछ जनसामान्य को माँ नर्मदा की धार्मिक, भौगोलिक. सांस्कृतिक, ग्रामीण, शहरी एवं सभ्यता के बारे  में वांछित  नहीं दे पा रहे थे. मैं अकिंचन  भी माँ के  बारे  क्या जानकारी दे सकता हूँ, परन्तु  कुछ नवीनता तथा जन साधारण  की समझ को  ध्यान  में  रख कर  मेरा स्वयं का लिखा नर्मदाष्टक.  "नित नमन माँ नर्मदे" माँ के  जन्म दिवस पर अर्पण कर रहा हूँ. 






                          आप भी सुन कर माँ का आशीष  प्राप्त करें- 



- विजय तिवारी "किसलय"

10 टिप्‍पणियां:

  1. नमन माँ नर्मदे..सुन्दर आराधना.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अच्छा लगा इसे सुनकर ..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. परमानंद आ गया पण्डितजी।
    नर्मदे हर, नर्मदे हर, नित नमन, माँ नर्मदे।
    आपको बहुत बहुत बधाई इस सुन्दर रचना के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  4. Tiwariji maine aaj phir se rachana suni bahut hi sunder aur sargarbhit hai.janak tiwari seoni.

    उत्तर देंहटाएं
  5. bahut sunder....apke geet ke bol anmol hai jaise maa narmada anmol hai.
    badhyee sunder prastuti ke liye

    उत्तर देंहटाएं
  6. विजय जी....जितने सुन्दर शब्द है ,उतना ही मधुर गायन.बूंद -बूंद .पोर पोर मे घुल गयी.

    धन्यवाद इसे हम तक पहुचाने के लिये.

    नमिता

    उत्तर देंहटाएं
  7. हमारी और मामाजी सुनील शुक्ला की ओर से भी आपको जन्मदिन की बहुत बहुत शुभकामनाएँ और आपके इस अद्भुत नर्मदाष्टक के लिए बहुत बहुत बधाई और आपको नर्मदे हर।

    उत्तर देंहटाएं