सोमवार, 20 अक्तूबर 2008

गरीबों का मसीहा


पैथालोजिस्ट मित्र से संजय बता रहा था :-
- डॉ पवार चिकित्सक के रूप में मसीहा हैं
- वे बहुत ही सज्जन और मिलनसार हैं - मात्र १० रूपये शुल्क लेकर गरीबों की निःस्वार्थ चिकित्सा करते हैं ।
मित्र ने कहा- "संजय आज के स्वार्थी युग में मसीहा और निःस्वार्थ भावना की बातें
केवल किताबों में ही अच्छी लगती हैं । फ़िर आप जिन सज्जन की बात कर रहे हैं,
मैं उनके पैथालोजी कमीसन का ही चैक देने जा रहा हूँ । "
कान कहीं से पकडें, जेब तो मरीज की ही कटती है ।
पॉश एरिया में उनकी आलीशान कोठी क्या ईमानदारी से बनी है ?
- डॉ विजय तिवारी " किसलय "

4 टिप्‍पणियां: