गुरुवार, 27 मार्च 2008

सदा मिलेगी खुशहाली

नीर करे कलकल नदियों में
.............लहरें उठें समुन्दर में ।
राहत पायें सारे प्राणी ,
...........अनुपम धरा-धरोहर में ॥

राहें खिलें सुमन-कलियों सी,
.............दिखे चतुर्दिश हरियाली।
लज बिखेरें छटा गुलाबी,
................भली लगे टेसू-लाली ॥
पागल भँवरे शोर मचाएँ,
.............कूके कोयल मतवाली ।
क्ष्य बना लो ' सृष्टि' जैसा,
............सदा मिलेगी खुशहाली
----# # #----

-डॉ विजय तिवारी '' किसलय"
जबलपुर, मध्य प्रदेश, इंडिया

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें