मंगलवार, 28 अप्रैल 2009

दोहा श्रृंखला [दोहा क्र. ५५ ]



शिशु क्या जाने कौन है, ईशा, राम, रहीम. सीख सीखकर ही बनें, शिल्पी, कवी, हकीम

Website templates

9 टिप्‍पणियां:

  1. बच्चे को कहते सभी यह तो है भगवान।
    इनमे से बनता कोई कृष्ण और रहमान।।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. IS DOHE KE BAARE ME KYA KAHUN BAS STABHDH HUN BACHHE MAN KE SACHHE ... BAHOT HI KHUBSURATI SE LIKHAA HAI AAPNE.. KILAY SAHIB AAPKO DHERO BADHAAYEE IS SACHHE DOHE KE LIYE...


    ARSH

    उत्तर देंहटाएं
  3. सही है बच्चों में हम जैसे संस्कार डालेंगे वही तो बनेंगे / उत्तम दोहा

    उत्तर देंहटाएं
  4. दोहे द्वारा उत्तम सन्देश.

    कहा भी गया है
    करत- करत अभ्यास के जड़मत होत सुजान

    बधाई.

    चन्द्र मोहन गुप्त

    उत्तर देंहटाएं
  5. समाज के लिये अच्‍छा संदेश देता हुआ दोहा

    उत्तर देंहटाएं
  6. vijay bhaiya namaskar...kahan hain ?.....kai dino se na phone aur na hi koi khabar....

    उत्तर देंहटाएं