गुरुवार, 25 सितंबर 2008

वो तुम नही तो कौन था

मैं तो अनजान
और अनाड़ी था
जीवन संग्राम में
हारा हुआ खिलाड़ी था

दिल में दर्द था,
चेहरा पीला और सर्द था


बड़े प्यार से,

थाम कर मेरा हाथ
उन्होंने कहा,

मैं हूँ ना तुम्हारे साथ

आई जब भी,
मन में निराशा



जगाई तब-तब,

जीवन में आशा

धैर्य के पथ पर,
मुश्किलों के रथ पर
सारथी बन साथ थे


अनमनी हर बात में,
जो मेरे सबसे ख़ास थे
भरोसेमंद की तरह,
जो मेरे पास-पास थे

घटाएँ गम की आज फिर,
हर तरफ गईं हैं घिर
सामने अंधेरा है,
दूर बहुत सवेरा है

मुश्किलों के दौर में,
ओर है ना छोर है
भंवर में आज नाव है,
दुविधा में मन का गाँव है

आज तक मुझे सदा
दिखा रहे थे जो दिशा
वो तुम नही तो कौन था
वो तुम नही तो कौन था

-विजय तिवारी " किसलय "
जबलपुर


8 टिप्‍पणियां:

  1. bahut sundar bhav hain ! apni taraf
    se uttar dene ka dussahas kar rahi
    hoon ! kshama karen !
    nissandeh , vah JEEVAN-AASHA thi !
    itni sundar rachna ke liye badhaaii!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया लिखा है ...बधाई ..

    उत्तर देंहटाएं
  3. अभिव्यक्ति जी
    नमस्ते
    सबसे पहले तो मेरे ब्लॉग देखने के लिए
    मेरा आभार स्वीकारें.
    कितना सही कहा है आपने.
    यही बात लेकर मैं पोयम
    लिखने बैठा था .
    आपने इस बात को समझा , मुझे बहुत अच्छा लगा

    " बहुत सुंदर भाव हैं ! अपनी तरफ
    से उत्तर देने का दुस्साहस कर रही
    हूँ ! क्षमा करें !
    निस्संदेह , वह जीवन-आशा थी !
    इतनी सुंदर रचना के लिए बधाई "


    आपका
    विजय तिवारी " किसलय "
    जबलपुर

    उत्तर देंहटाएं
  4. bhai anwar qureshi ji
    aapka abhinandan hai mere blog par.
    badi khushi hui ki aapne mera blog dekha aur padha.
    aapka abhaari hoon
    krripayaa , bhavishy men sneh banaye rakhen
    aapka
    vijay
    jabalpur

    उत्तर देंहटाएं
  5. vijay jii

    घटाएँ गम की आज फिर
    हर तरफ गईं हैं घिर
    सामने अंधेरा है
    दूर बहुत सवेरा है

    teri zindgi mein aana ki mukadar tha
    kuch pal saath nibhana ki mukadar tha.

    bhawar main faas gayi thi kishti zindgi ki
    tumhare saath kinara paana ik mukadar tha

    aapki kavita mein chhupa pyaar aur dard
    dono mnazaar aate hain,
    paane aor door jane ki kashmakash
    dikhayi deti hai.

    shubkamnayon ke saath
    nira

    उत्तर देंहटाएं
  6. nira jee
    namaste
    aapke dwaara post kee gai tippani, mere mliye bahut hi mahatvpoorn hai.
    aapne is chhandmikt rachna ko ko bade dhairy ke saath padh kar uttar diya
    dhanywaad
    AAPKA
    VIJAY

    उत्तर देंहटाएं
  7. ahsas bhari sundar abhivaykti

    acha laga apki is kavita ko padke...

    ek sher

    dil ke tukde samete jo hamne..
    hath mein lahoo lag gya hai
    dekh ke dard dil ka kisi ke
    dard soya hua jag gya hai

    bas yuhi hi likhte rahiyega
    regards
    sakhi

    उत्तर देंहटाएं
  8. sakhi jee
    namaste
    aapke vichaar mere liye
    bahut mayne rakhte hain.
    aap jis gahraai se padh kar pratyuttar deti hain , usse lagta hai ki aap sahity ka satat adhyayan bhi karti hain
    aapka hi sher.....
    dil ke tukde samete jo hamne..
    hath mein lahoo lag gya hai
    dekh ke dard dil ka kisi ke
    dard soya hua jag gya hai
    achchha laga

    aapka
    vijay

    उत्तर देंहटाएं