शनिवार, 12 जनवरी 2008


गम की अँधेरी रात में

दीप खुशियों के जलें

दिल के उजड़े बाग़ में

प्यार की कलियाँ खिलें
जिन्दगी की राह में

हमसफ़र कोई मिले,

बस यूँ ही जाएँ गुजर

मंजिलें-दर-मंजिलें......


- डॉ विजय तिवारी 'किसलय'

2 टिप्‍पणियां:

  1. aapki gazal padhi aur girish ji ke dawara aapko jana

    aapko agar samay mile to yaha zarur padhare aap jaisa kavi hamare beech ho ye samaan ki baat hai

    www.shayarfamily.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. thanks shraddhaji.
    ham sadaiv sahityakaron ke saath hi hain.
    hamare prati sahridayata ke liye dhanyawaad.

    - kislay ,

    उत्तर देंहटाएं